Main Aur Meri Awaargi Lyrics Translation in Hindi Nusrat Fateh Ali Khan [NusratSahib.Com]



































   Lyrics - Thoughts in the World

Phirte hain kab se dar-ba-dar
Ab is nagar ab us nagar
Ek doosre ke humsafar

Main aur meri awaargi -4


Na aashna har rehguzar
Na meherbaan har ek nazar
Jaayein to ab jaaye kidhar

Main aur meri awaargi -4
==============================
फिरते है कब से दर-ब-दर
अब इस नगर अब उस नगर
एक दुसरे के हमसफ़र

मैं और मेरी आवारगी - 4

न आशना हर रहगुज़र
न मेहरबान हर एक नज़र
जाएँ तो अब जाए किधर

मैं और मेरी आवारगी - 4
==============================



Hum bhi kabhi aabaad the
Aese kahaan barbaad the
Hum bhi kabhi aabaad the
Aese kahaan barbaad the

Befikr the aazaad the -2
Masroor the dilshaad the -2
Wo chaal aesi chal gayaa
Hum bujh gaye dil jal gayaa
Nikle jalaa kar apanaa ghar

Main aur meri awaargi -4
==============================
हम भी कभी आबाद थे
ऐसे कहाँ बर्बाद थे
हम भी कभी आबाद थे
ऐसे कहाँ बर्बाद थे
बे-फ़िक्र थे आज़ाद थे - 2
मसरूर थे दिलशाद थे - 2
वो चाल ऐसी चल गया
हम बुझ गए दिल जल गया
निकले जला कर अपना घर
मैं और मेरी आवारगी - 4
==============================



Wo maah-e-vash Wo maah-e-rooh
Wo maah-e-kaamil hu-ba-hu
Wo maah-e-vash Wo maah-e-rooh
Wo maah-e-kaamil hu-ba-hu

Theen jis ki baatein ku-ba-ku -2
Us se ajab thi guftaguu -2
Phir yoon huwa wo kho gayi
Aur mujh ko zid si ho ga_ii
Laayeinge us ko dhoond kar

Main aur meri awaargi -4
==============================
वो माह-इ-वश वो माह-इ-रूह
वो माह-इ-कामिल हु-बा-हु
वो माह-इ-वश वो माह-इ-रूह
वो माह-इ-कामिल हु-बा-हु

थीं जिस की बातें को-अब-को - 2
उस से अजब थी गुफ्तगू - 2
फिर यूं हुआ वो खो गयी
और मुझ को ज़िद सी हो ग_ई
लाएंगे उस को ढून्ढ कर

मैं और मेरी आवारगी - 4
==============================



(Sargam .....pa ma ga re ....)



Ye dil hi tha jo seh gayaa
Wo baat aesi keh gayaa
Ye dil hi tha jo seh gayaa
Wo baat aesi keh gayaa

Kehne ko phir kya reh gayaa -2
Ashkon ka dariyaa beh gayaa -2
Jab keh ke vo dilbar gayaa
Tere liye main mar gayaa
Rote hain us ko raat bhar

Main aur meri awaargi -4
==============================
ये दिल ही था जो सह गया
वो बात ऐसी कह गया
ये दिल ही था जो सह गया
वो बात ऐसी कह गया
कहने को फिर क्या रह गया - 2
अश्कों का दरिया बह गया - 2
जब कह के वो दिलबर गया
तेरे लिए मैं मर गया
रोते हैं उस को रात भर
मैं और मेरी आवारगी - 4
==============================



Ab gham uthaayein kis liye
Aansu bahaayein kis liye
Ab gham uthaayein kis liye
Aansu bahaayein kis liye

Ye dil jalaayein kis liye -2
Yoon jaan gawaayein kis liye -2
Peshaa na ho jis kaa sifan
Dhoondeinge ab aesa sanam
Honge kahin to kaar-gar

Main aur meri awaargi -4
==============================
अब ग़म उठाएं किस लिए
आंसू बहाएं किस लिए
अब ग़म उठाएं किस लिए
आंसू बहाएं किस लिए

ये दिल जलाएं किस लिए - 2
यूं जान गवाएं किस लिए - 2
पेशा न हो जिस का सिफँ
ढूंढेंगे अब ऐसा सनम
होंगे कहीं तो कार-गर

मैं और मेरी आवारगी - 4
==============================



(Sargam .....pa ma ga re ....)



Aasaar hain sab khot ke
Imkaan hain sab chont ke
Aasaar hain sab khot ke
Imkaan hain sab chont ke

Ghar band hain sab koth ke -2
Ab Khatm hai sab Totke -2
Qismat kaa sab ye pher hai
Andher hai andher hai
Aese hue hain be-asar

Main aur meri awaargi -4
==============================
आसार हैं सब खोट के
इमकान हैं सब चोंट के
आसार हैं सब खोट के
इमकान हैं सब चोंट के

घर बंद हैं सब कोठ के - 2
अब ख़तम है सब टोटके - 2
क़िस्मत का सब ये फेर है
अंधेर है अंधेर है
ऐसे हुए हैं बे-असर

मैं और मेरी आवारगी - 4
==============================



Jab humdam-o-humraaz tha
Tab aur hi andaaz tha
Jab humdam-o-humraaz tha
Tab aur hi andaaz tha

Ab soz hai tab saaz tha -2
Ab sharm hai tab naaz tha -2
Ab mujh se ho to ho bhi kya
Hai saath wo to wo bhi kya
Ek behunar ek besabar

Main aur meri awaargi -4

Phirte hain kab se dar-ba-dar
Ab is nagar ab us nagar
Ek doosre ke humsafar

Main aur meri awaargi - 8
==============================
जब हमदम-ओ-हमराज़ था
तब और ही अंदाज़ था
जब हमदम-ओ-हमराज़ था
तब और ही अंदाज़ था

अब सोज़ है तब साज़ था - 2
अब शर्म है तब नाज़ था - 2
अब मुझ से हो तो हो भी क्या
है साथ वो तो वो भी क्या
एक बेहुनर एक बेसबर


फिरते है कब से दर-ब-दर
अब इस नगर अब उस नगर
एक दुसरे के हमसफ़र

मैं और मेरी आवारगी - 4

न आशना हर रहगुज़र
न मेहरबान हर एक नज़र
जाएँ तो अब जाए किधर

मैं और मेरी आवारगी - 8
==============================

   The Legend USTAD NUSRAT FATEH ALI KHAN SAHIB


« Previous Lyrics
Next Lyrics »

   Comments - NusratSahib.Com






Comment Box is loading comments...