Ae Kash Tujhe Aisa Ik Zakhm-E-Judai Doon Lyrics Nusrat Fateh Ali Khan [NusratSahib.Com]

Ae Kash Tujhe Aisa Ik Zakhm-E-Judai Doon
(Oh how I wish to give you the wound of separation)

Ae Kash Tujhe Aisa Ik Zakhm-E-Judai Doon
Jab tees koi chamke mein tujh ko dikhayi doon
================================
ऐ काश! तुझे ऐसा इक ज़ख्म-इ-जुदाई दूँ
जब टीस कोई चमके मैं तुझ को दिखाई दूँ
================================


Haan mein ne tujhe chaaha inkaar nahi mujh ko
Yeh jurm ko sabit hai, kya is ki safaii doon?

Ae Kash Tujhe Aisa Ik Zakhm-e-Judai Doon
================================
हाँ मैंने तुझे चाह इंकार नहीं मुझ को
यह जुर्म को साबित है, क्या इस की सफाई दूँ?
ऐ काश! तुझे ऐसा इक ज़ख्म-इ-जुदाई दूँ
================================



Jis rooz kabhi tera deedar na ho paaye
Mein apni he aankhon ko nabeena dikhai doon

Ae Kash Tujhe Aisa Ik Zakhm-e-Judai Doon
================================
जिस रोज़ कभी तेरा दीदार न हो पाए
में अपनी ही आँखों को न भी ना दिखाई दूँ

ऐ काश! तुझे ऐसा इक ज़ख्म-इ-जुदाई दूँ
================================



Maghroor hai tu kitna sirf aik sanam bun ker
Tu chaahe to mein tujh ko tun mun ki khudai doon

Ae Kash Tujhe Aisa Ik Zakhm-e-Judai Doon
================================
मग़रूर है तू कितना सिर्फ एक सनम बन कर 
तू चाहे तो मैं तुझ को तन्न मन्न की खुदाई दूँ

ऐ काश! तुझे ऐसा इक ज़ख्म-इ-जुदाई दूँ
================================



Tujh sa koi dil wala mehsoos karay mujh ko
Mein geet nahi aisa jo sub ko sunayi doon

Ae Kash Tujhe Aisa Ik Zakhm-e-Judai Doon
================================
तुझ सा कोई दिल वाला महसूस करे मुझ को
मैं गीत नहीं ऐसा जो सब को सुनाई दूँ

ऐ काश! तुझे ऐसा इक ज़ख्म-इ-जुदाई दूँ
================================



Ik umar ke baad apne chit-chor ko pakra hai
Mein kaise tujhe apni baahon se rihayi doon?

Ae Kash Tujhe Aisa Ik Zakhm-e-Judai Doon
================================
इक उम्र के बाद अपने चित-चोर को पकड़ा है
मैं कैसे तुझे अपनी बाहों से रिहाई दूँ?

ऐ काश! तुझे ऐसा इक ज़ख्म-इ-जुदाई दूँ
================================



Ae Kash Tujhe Aisa Ik Zakhm-E-Judai Doon
Jab tees koi chamke mein tujh ko dikhayi doon
================================
जब टीस कोई चमके मैं तुझ को दिखाई दूँ
ऐ काश! तुझे ऐसा इक ज़ख्म-इ-जुदाई दूँ
================================